मुलायम चपाती कैसे बनाएं ? soft chapatis tips

Soft Chapati Recipe कई सारी महिलाओं की यही शिकायत होती है कि वह आटा चाहे जितनी भी अच्‍छी तरह से क्यों ना गूंध लें लेकिन उनकी रोटी (roti) कभी भी नरम नहीं बनती। रोटियां अगर नरम नहीं बनती हैं तो फिर खाने में भी बिल्‍कुल अच्‍छी नहीं लगती हैं और हमारे घरों में तो रोटियां खाए बिना किसी का मानो काम ही नहीं चलता हैं।

रोटी, नान या फिर परांठे के लिए आटा थोड़ा सा मुलायम ही गूंधा जाता है। मुलायम आटे से बनी हुई रोटी ठंडी होने पर भी कड़ी नहीं होती हैं।

जबकि सख्त आटे से बनी हुई रोटी ठंडी होने पर खाने में बिलकुल भी अच्छी नहीं लगती हैं। कई लोग समझ ही नहीं पाते हैं कि आटा गूधते समय कितना पानी लगता है तो आज हम आपको बता दें कि जितना आटा है उससे आधा पानी लगेगा।

आटा लगाने के लिए हमेशा गुनगुने पानी का ही प्रयोग करें हल्के गर्म पानी से आटा ज्यादा मुलायम लगता है और रोटी भी अधिक मुलायम और अच्छी बनती है। अब आइये जानते हैं नरम रोटी बनाने की बहुत ही (soft chapatis tips) आसान विधि।

आवश्यक सामग्री – necessary ingredients soft chapati

  • गेहूं का आटा = 250 ग्राम, दो कप
  • गर्म पानी = एक कप
  • नमक = आधा छोटा चम्‍मच
  • तेल = एक छोटा चम्‍मच

विधि – how to make soft bread

आटे को किसी गहरी थाली या फिर बड़े प्याले में छान कर निकाल लें आटे में नमक और तेल डाल दें।

एक हाथ (बायें हाथ) से पानी डालते हुए आटे को दायें हाथ से गूधे एक साथ ज्यादा पानी आटे में ना डाले आटा जब अच्छी तरह से मिक्स हो जाएं तब आटे में मुक्कियां लगाकर बार-बार आटे को दायें हाथ से उठा कर पलटिये (आटे को ज्यादा सख्त और ज्यादा पतला ना करें) आटा एक जैसा हो जाने पर उसे मुक्कियां लगाकर अगर आवश्यकता हो तो उसके से ऊपर थोड़ा 2 से 3 छोटे चम्मच पानी छिड़ककर 20 से 30 मिनट के लिएं ढककर छोड़ दें।

20 मिनट के बाद आटे को उठाकर इकठ्ठा करें बार-बार मुक्किया लगाकर इकठ्ठा करके चिकना और मुलायम कर लें हाथ में बिलकुल थोड़ा सा तेल लगाकर चिकना करके भी आटे को संभाला जा सकता है गूंधे गए आटे का ऊपरी भाग चिकना और इसमें खिंचाव पैदा होने तक गूंधते रहना चाहिये आटा अच्छी तरह से गंधे जाने पर चिकना हो जाता है।

तो फिर यह रोटी बनाते समय हाथों में ज्यादा अधिक नहीं चिपकता हैं और बेलते समय भी इसे कम परोथन (सूखा आटा) लगा कर बेला जा सकता है जब आटा चिकना और नरम हो जाएं तब उसे थाली में एक और रख दें चपाती बनाने के लिए आटा बिलकुल तैयार हो गया है।

अब तवा गर्म होने के लिए आग पर रखें और गुंधे हुएं आटे में से थोडा सा आटा(aate ki sabzi) तोड़कर निकालें और हाथ से गोल-गोल लोई बनाएं अब लोई को सूखे आटे में लपेटे और अतिरिक्त सूखा आटा झाड़ दें (ज्यादा सूखा आटा लोई के ऊपर बिलकुल भी नहीं रहना चाहिये)

सूखा आटा लगी हुई लोई को चकले पर रखे और बेलन की मदद से 2 से 3 इंच व्यास में बेल कर बड़ा कर लें बेलन से एक जैसा गोल बेलिये इस बेली गई रोटी को फिर से सूखे आटे में लपेटिये और अतिरिक्त सूखा आटा रोटी से झाड़ दें।

सूखा आटा लगी रोटी को चकले पर रखे और 5 से 7 इंच के व्यास में चारों तरफ एक जैसी मोटाई की गोल रोटी बेले गोल और एक जैसी मोटाई की रोटी बेलने के लिए आपको प्रेक्टिस तो करनी ही होगी रोटी बेलते समय एक जैसा हल्का दबाब दें ज्यादा अधिक जोर न लगाएं नहीं तो रोटी कहीं से मोटी और कहीं से पतली हो जायेगी और सही से फूलेगी भी नहीं।

बेली गई गोल रोटी को गर्म तवे पर डाले निचली सतह थोड़ी ही सिकने पर रोटी की ऊपर की सतह का कलर कुछ गहरा हो जाता है अब रोटी को पलटिये दूसरी सतह को ब्राउन चित्ती आने तक सेके।

रोटी को सीधे तवे पर भी सेक सकते हैं

तवे पर रोटी को सेकने के लिए दूसरी सतह पर चित्ती आने के बाद रोटी को पलटिये और किसी कपड़े या फिर चमचे को फिराकर रोटी तवे पर ही सेक लें।

तवा उतार कर गैस पर भी सेक सकते हैं

गैस पर सेकने के लिए तवे से चपाती उतारे और पहले चित्ती वाली सतह को सीधे आग पर चिमटे की मदद से घुमाते हुए थोड़ा और गहरी चित्ती होने तक सेके (इस बात का ध्यान रहे कि चित्ती ब्राउन ही रहे काली नहीं पड़नी चाहिये) रोटी को पलट कर दूसरी तरफ सेके रोटी को चिमटे से पकड़ कर चारों और घुमाते हुए हल्की ब्राउन चित्ती आने तक सेक लें रोटी पूरी तरह से फूल जाती है फूली हुई रोटी को कभी भी हाथ से न पकड़े इससे निकलने वाली भाप आपका हाथ भी जला सकती है।

phulka roti

अगर आपकी रोटी एक दम फूल जाए तो इसका मतलब है कि यह अच्छी तरह से सिक रही है

उस पर हल्की चित्ती आने तक और सेक लें अगर आप किसी को खाना खिला रहे हैं और ये रोटी गरम-गरम दे रही है तब आप ये चित्ती थोड़ी सी गहरी कर सकती है यानी कि आप कुरकुरी रोटी सेक कर दे सकती हैं तुरन्त सिकी हुई घी लगी कुरकुरी रोटी खाने में बहुत ही अच्छी लगती है लेकिन बाद में खाने के लिए कड़क सिकी हुई रोटी अच्छी नहीं रहती हैं।

रोटी को सेककर कैसरोल में रखे दूसरी रोटी (roti recipe) भी इसी तरह सेक लें इस रोटी के ऊपर थोड़ा सा देशी घी यानी कि एक चौथाई छोटे चम्मच से भी आधा रखे और दोनों रोटी को एक दूसरे के ऊपर करके घी लगा दें घी लगी हुई रोटी कैसरोल में रख दें बिना घी लगी रोटी जल्दी पचती है।

गरमगर्म बिना घी लगी हुई रोटी खाएं लेकिन घी लगी रोटी कैसरोल में रखने से बाद में 5 से 6 घंटे या और भी ज्यादा समय बाद खाने के लिए नरम रहती हैं।

सुझाव

  • गर्म और भाप से भरी हुई रोटियों को तुरन्त ही डिब्बे में न रखे नहीं तो इसकी भाप रोटियों को गीला कर देती है पहले रोटी की भाप निकल जाने दें।
  • रोटियों को कैसरोल या फिर डिब्बे के नीचे कागज फाइल या फिर कपडा लगाकर रखें रोटियां कपडे में लपेट कर भी रखी जा सकतीं है।

इस रेसिपी से जुडा हुआ कोई भी सवाल आप के मन में हो तो नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में लिखें या अपनी राय दें।

शेयर करें:

Leave a Comment