लिवर के रोगियों के लिए अमृत हैं मुलेठी की चाय Mulethi Tea Benefits

Mulethi Tea Benefits आजकल लिवर की बीमारी होना एक आम समस्या बनता जा रहा है। और ऐसे में मुलेठी आपके लिए बड़े ही काम की चीज है। लीवर की बीमारी के इलाज के लिए मुलेठी का प्रयोग कई आयुर्वेदिक औषधियों में भी किया जाता है।

मुलेठी के रोज़ाना सेवन से लीवर बहुत मजबूत हो जाता है। चाय व कॉफी हमारे स्वास्थ को हानि पहुंचाने वाली होती हैं ये हमारे पेट में जाकर acidity बनाती। जिसकी वजह से हमें और भी कई समस्याएं हो जाती हैं।

आप ज्यादातर मुलेठी तभी पीते है तब आप बीमारी से लड़ रहें होते हैं। इसीलिए दोस्तों मुलेठी की चाय रोज़ाना पीनी चाहिए।

मुलेठी का प्रयोग आयुर्वेद में औषिधि के रूप में पुराने जमाने से किया जाता रहा हैं। चलिए आज हम आपको बताते हैं मुलेठी की चाय बना कर पीने से लीवर को क्या फायदे मिलते हैं।

फायदे

जो लोग अल्कोहलिक फैटी लिवर की बीमारी से पीड़ित है। उनके लीवर में फैट की मात्रा अधिक बढ़ जाती हैं। इस बीमारी में लीवर में ट्रांसअमाइनेज एंजाइम ALT और AST की मात्रा अधिक बढ़ जाती हैं। उन लोगो को मुलेठी का सेवन अवश्य करना चाहिए।

रिसर्च भी यही बताती हैं की मुलेठी में पाए जाने वाले तत्व इन एंजाइम को लीवर से कम करने का काम करते हैं। लीवर से जुड़ी हर बीमारी से बचने के लिए मुलेठी की चाय का सेवन अवश्य करना चाहिए।

मुलेठी की जड़ का इस्तेमाल अनेक बीमारी के इलाज के लिए होता हैं। ये डिप्रेशन, अस्थमा, मोटापे के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है।

ठंड लगने व फ्लू से भी निजात दिलाता हैं। कीमोथेरेपी की वजह से लिवर को काफी नुकसान पहुंचता हैं ऐसे में मुलेठी का सेवन ज़रूर करना चाहिए हैं। ये लिवर में होने वाले फ्री रेडिकल्स और टॉक्सिक रसायन को कम करने का काम करता हैं

मुलेठी की चाय बनाने की सामग्री – mulethi tea recipe

  • पानी = दो कप
  • मुलेठी पाउडर = एक चुटकी
  • चायपत्ती = थोड़ी सी

विधि – how to make mulethi tea benefits

mulethiचाय बनाने के लिए पानी को भगोने में डालकर उबलने के लिए रख दें। जब पानी में उबाल आ जाए तो फिर इसमें मुलेठी पाउडर और थोड़ी सी चाय पत्ती डाल दें। अब इस पानी को सात से आठ मिनट तक उबलने दें।

फिर इसे छान लें इसे सुबह गरमागर्म पीने से ही फायदा होता हैं। इसको आप दिन में 2 बार भी पी सकते हैं। पानी में घुली हुई मुलैठी कार्बन टेट्राक्लोराइड से उत्पन्न टॉक्सिक मटेरियल के खिलाफ काफी असरदार हैं। ग्लिसराइजिक एसिड मौजूद होने की वजह से इसका स्वाद साधारण चीनी से 5 गुना ज्यादा मीठा होता हैं।

शेयर करें:

Leave a Comment