सेब खाने का सही तरीका और सही समय क्या है और ये किन बीमारियों में फायदेमंद है

दोस्तों ये कहावत तो आपने सुनी ही होगी कि एक सेब रोज़ खाएं डॉक्टर को दूर भगाएँ। लेकिन क्या आपने कभी सोचा कि ऐसा क्यों बोला जाता है तो आज हम आपको सेब के फायदों के बारे में विस्तार से बताएंगे।

लेकिन क्या आप जानते है कि सेब का उत्पादन मध्य एशिया में शुरू हुआ था वहां से ये यूरोप गया और फिर बाकि दुनिया भर में।

भारत में जम्मू कश्मीर और हिमाचल में सेब का सबसे ज्यादा उत्पादन होता है।

सेब में इतने सारे गुण पाएं जाते है कि हम आपको बता नहीं सकते सेब हर उम्र के लोगो के लिए फायदेमंद होता है।

सेब का गूदा और छिलके दोनों ही बहुत काम के होते है सेब में घुल जाने वाले फायबर होते है।

सेब आयरन का बहुत बड़ा स्रोत माना जाता है विटामिन C सेब में काफी मात्रा में पाया जाता है। सेब में विटामिन A का भी अच्छा स्रोत माना जाता है।

अगर आप को खून की कमी है यानि के अनेमिया के शिकार है तो आप सेब खाकर इस कमी को दूर कर सकते है।

आजकल इस भाग दौड़ वाली जिन्दगी में दिल का स्वस्थ रहना काफी ज़रूरी माना जाता है आप रोजाना एक सेब खाकर अपने दिल को स्वस्थ रख सकते है।

सेब में केलौरी एकदम ज़ीरो होती है इसी वजह से सेब मोटापे को कम करने और वज़न घटाने में काफी कारगर माना जाता है।

बढ़ती हुई उम्र में अक्सर लोगो को भूलने की बीमारी हो जाती है रोजाना सेब खाने वाले लोग इस बीमारी से बच सकते है।

सेब में फेनोलिक नामक एक कंपाउंड होता है जो धमनियां जिसमे रक्त का प्रवाह होता है उसमे किसी भी तरह की रुकावट को दूर कर देता है जिससे दिल स्वस्थ रहता है।

सेब में एंटीऑक्सीडेंट्स भी काफी मात्रा में पाया जाता है जिससे शारीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी मजबूत होती है।    

मसूड़ो और दांतों के लिए भी सेब खाना बहुत फायदेमंद होता है अगर आप सेब को दांतों से काटकर खाएँगे तो ज्यादा बेहतर है।

मुहं में होने वाली बीमारियों से भी सेब हमे बचाता है।

रोजाना एक सेब खाने से हमारे शारीर में आयरन की कमी नहीं होती है।

सेब में केल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है इसी वजह से सेब खाने से हड्डियाँ भी मजबूत हो जाती है।

प्रतिदिन सेब खाने से पेट का कैंसर, स्तन कैंसर,मुहं का केंसर और लीवर कैंसर की आशंका 25 % कम हो जाती है। सेब खाने से गुर्दे की पथरी को भी निकाला जा सकता है।

सेब का रोजाना सेवन करने से सेब में मौजूद विटामिन A की वजह से मोतियाँबिंद से बचा जा सकता है और साथ ही आँखों की काफी सारी समस्याओं से भी बचा जा सकता है।

सेब बहुत ही हेल्दी फ़ूड की श्रेणी में आता है लेकिन लोगो को इसका पता ही नहीं होता कि सेब का कब कितना और किस तरह से प्रयोग करना चाहिए और इसी वजह से सेब पाचन में गड्बगी और भी कई समस्या कर देता है। ये सब इसलिए होता है किसी भी फ़ूड का सही फायदा शरीर को मिलने के लिय उसे खाने का सही समय और सही तरीके का पता होना भी ज़रूरी है।

ये तो आप सभी जानते है की सेब को काटने के थोड़ी देर बाद ही उसका कलर बदलने लगता है। क्या आप जानते है कि आखिर ऐसा क्यों होता है? और इसे खाने से आपको क्या नुकसान हो सकता है?

1. सेब को छिलके के साथ खाना चाहिए या छिलका उतारकर?

2. सेब खाने का सही समय क्या है?

3. एक दिन में हमे कितना सेब खाना चाहिए?

4. सेब का जूस पीने से शरीर को फायदा मिलता है या नुकसान?

क्या आप जानते है की सेब हमे किन-किन बीमारियों में फायदा पुंहचाता है सेब एक लो केलोरी की श्रेणी में आता है है इसमें थोड़ी मात्रा में वाईट मीन्स और मिनरल होते है। इसी वजह से सेब का कोई भी इस्तेमाल कर सकता है सेब में जो सबसे खास चीज़ होती है वह है फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट्स फाइबर शरीर में पाचन को अच्छा बनाकर कब्ज़ की समस्या को दूर कर देता है

साथ ही ब्लड शुगर को कंट्रोल करके बुरे कोलेस्त्रोल की मात्रा को घटा देता है।  

एंटी ऑक्सीडेंट्स शारीर में बनने वाले ज़हरीले पदार्थ को खत्म करके एजिंग प्रोसेस यानि की बूढ़े होने की प्रतिकिर्या को काफी हद तक धीमा कर देता है। इसी वजह से लम्बी उम्र तक स्किन गिलों दिखने के साथ-साथ बालो को भी स्वस्थ बनाये रखता है।

शरीर में बढ़ी हुई गर्मी को कम करके केंसर जैसी बीमारियां होने का खतरा भी काफी हद तक कम कर देता है।

एक दिन में कितना सेब खाना चाहिए एक दिन में एक सेब खाना भी काफी होता है। लेकिन अगर कोई व्यक्ति एक सेब से ज्यादा खाना चाहे तो इसमें कोई प्रोब्लम नहीं है।

सेब को काटने के बाद जितनी जल्दी हो सके उसे खा लेना चाहिए क्योकि कटे हुए सेब में जो पोल्य्फेनोल नाम का इन्साइम होता है वह ऑक्सीजन से रिएक्ट करके जल्द ही नष्ट होने लगता है। यही वजह है की सेब को काटने के थोड़ी देर बाद ही वह काला पड़ने लगता है। आप काटे हुए सेब का बाद में भी प्रयोग कर सकते है लेकिन सेब के काले वाले भाग हो काटकर निकाल दें सबसे अच्छा तो ये है की सेब को काटकर तुरंत खा लें।

सेब खाने का सही समय क्या है?

सेब खाने का सही फायदा शरीर को मिलने के लिए सेब का सुबह खली पेट खाना बहुत ही फायदेमंद होता है। क्योकि इस समय खाई हुई चीजों का हमारे शरीर पर बहुत ज्यादा असर होता है दिन के समय भूख लगने पर स्नैक्स के तोर पर भी आप इसे खा सकते है लेकिन दूसरे खाने और सेब खाने के बीच में 2 घंटे का फर्क ज़रूर होना चाहिए।

सेब कब नहीं खाना चाहिए?

खाना खाने के फ़ौरन बाद और रात के समय सेब नहीं खाना चाहिए या फिर किसी भी फल का प्रयोग नहीं करना चाहिए ऐसा करने से ये पाचन में गडबड़ी कर देता है।

सेब को छीलकर खाना चाहिए या छिलका उतार कर?

सेब के छिलके में शरीर को फायदा पहुंचाने वाले बहुत सारे पोषत तत्व होते है। लेकिन इस बात को भी ध्यान में रखना चाहिए कि आज कल सेब को खरान होने से बचाने के लिए जब सेब पेड़ पर लगना शुरू होता है तभी से उस पर कई तरह के केमिकल का छिड़काओ किया जाता है। सेब को बगीचे से तोड़ने के बाद भी उसे कंपनी में लाकर उसपर वेक्स की लयर चड़ाई जाती है। ताकि ये देखने में सुन्दर और चमकदार दिखे लेकिन इस तरह का सेब खाने के बाद फायदा तो दूर ये हमारी बोडी में कई तरह की समस्या पैदा कर देता है।

लोग अक्सर ये गलती करते है की सेब को सादे पानी से धोकर खा लेते है और ये बहुत ही गलत तरीका होता है। क्योकि सादे पानी से धोने से सेब के ऊपर जो केमिकल लगा होता है वह नहीं निकलपाता।

क्या आपने कभी सोचा है की इसके लिए हमे क्या करना चाहिए जो सेब खाने के सभी फायदे मिलने के साथ हम इस केमिकल से भी बच जाये इसके दो तरीके है।

पहला तरीका एक बड़े बर्तन में पानी गर्म करके उसमे एक टेबलस्पून बेकिंग सोडा डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर लें और फिर सेब के साथ जो भी दूसरे फल और सब्जियां है उन सभी को एक बार ही इस पानी में डालकर 15 मिनट के लिए रख दें।

बेकिंग सोडा सभी फल व सब्जियों के ऊपर से केमिकल को निकाल देता है और गर्म पानी फल और सब्जियों के ऊपर वेक्स लेयर को पिग्लाने का काम करता है ऐसा करने से सेब के ऊपर लगे सभी केमिकल निकल जाते है।

15 मिनट बाद सेब को बेकिंग सोडे वाले पानी से निकालकर सादे पानी से अच्छी तरह से धो लें फिर साफ टोवल से अच्छे से पोछ लें।

अगर आप ये सब नहीं कर सकते तो सेब का छिलका निकाल दें ऐसा करने से सेब के पोषक तत्व में थोड़ी कमी तो आ जाएगी। लेकिन ये खाने में ज्यादा सेफ और पचने में आसान हो जायेगा जिससे इसका बच्चा हो या बुढा कोई भी आसानी से इस्तेमाल कर सकता है।

अगर सेब का जूस बनाकर पिया जाए तो उससे शरीर को फायदा होगा या नुकसान?

सेब खाने का सबसे ज्यादा फायदा इसे डायरेक्ट खाने से मिलता है सेब का इस तरह से प्रयोग करने से सेब में मौजूद सभी तरह के पोषक तत्व मिलते है जो हमारे शरीर को बहुत फायदा पहुंचाता है। इसका जूस बनाकर कर भी पिया जा सकता है।

जूस बनाने के लिए जब ये जूसर में तेज़ रफ़्तार से पिस्ता है तो ये गर्म हो जाता है इसी वजह से सेब में मौजूद एंसाइन थोड़े वाईटमिंस और मिनरल भी कम हो जाते है। फिर भी काफी पोषक तत्व इसमें रहते है जो शरीर को फायदा पहुंचाता है सेब का जूस शरीर को नुकसान जब पहुंचाता है जब सेब के जूस को छान दिया जाता है। क्योकि जूस को छानने से इसमें मौजूद फायबर पल्प के साथ बाहर निकल जाता है तब ये जूस शरीर में जाने के बाद ब्लड शुगर को इन्ग्रीस कर देता है फिर ये जूस फायदा पहुंचाने की बजाए शारीर को नुकसान पहुंचाता है। अगर आप सेब का जूस बनाकर पीते है तो उसे छानना नहीं चाहिय।

आप सेब का दूध के साथ शेक बनाकर भी पी सकते है लेकिन ऐसा करने से ये पचने में थोडा भरी हो जाता है और हर किसी को आसानी से नहीं पचता। इसीलिए आपको इसमें दूध मिलाना चाहिए या नहीं ये आपकी पाचन शक्ति पर डिपेंट करता है।   

5/5 - (2 votes)

Leave a Comment

join us on telegram zayka recipes