पुराने तरीके छोड़कर ऐसे बनाएं ‘मीठी मठरी’ – HOW TO MAKE sweet mathri recipe

होली (Holi) या फिर किसी अन्य त्यौहार पर आप मीठी मठरी (meethi mathri) भी बना सकती है, ये मीठी मठरी (meethi mathri) खाने में बहुत ही ज्यादा अच्छी होती हैं

ये मीठी मठरी (Sweet Matrhi)  को करवा चौथ के उपवास में भी बनाया जाता है और इन्ही मीठी मठरी को परांठा (PARATHA) जितना बड़ा बना दिया जाएं तो फिर ये मठ्ठे कहलाते है बड़े आकार के मट्ठे शादियों में शगुन के रुप में डलिया भर कर दुल्हन के साथ में दिए जाते है जो दूल्हे के घर में सबको बांटे जाते हैं वो मठ्ठे बहुत ही ज्यादा स्वादिष्ट (Delicious) लगते हैं।

ये मीठी मठरियां बनाने में बहुत ही आसान हैं और समय भी बनाने में बहुत कम लगता है और खाने में भी बहुत स्वादिष्ट हैं तो फिर आइये बनाना शुरू करें (meethi mathri RECIPE) मीठी मठरी….

आवश्यक सामग्री – necessary ingredients – sweet mathri recipe

  • मैदा = 500 ग्राम
  • घी = 125 ग्राम, आधे कप से थोड़ा सा ज्यादा
  • चीनी = 500 ग्राम
  • दूध = एक टेबल स्पून
  • घी = मठरियां तलने के लिए

विधि – HOW TO Make sweet mathri recipe

एक बर्तन में मैदे को छान कर निकाल लें और घी पिघलाइये और मैदे में डाल कर हाथों से अच्छी तरह से मिलाएं और गुनगुने पानी की मदद से सख्त आटा गूंध लें और गुंधे हुए आटे को आधे घंटे के लिएं ढककर रख दें।

अब गुंधे आटे को मसल-मसल कर मुलायम कर लें और आटे से छोटी-छोटी लोइयां बनाएं इस आटे से करीब 30 से 40 लोइयां बन जायेंगी इन लोइयों को गीले कपड़े से ढककर रख दें। एक भारी तले की कढ़ाई में घी डाल कर गर्म करे

अब एक लोई उठाएं और 2 से 3 इंच के व्यास में बेल लें (ये मठरियां थोड़ी मोटी ही बेली जाती हैं) बेली हुई मठरी में चाकू की मदद से 12 से 15 गोचे लगा दें मठरी को पलटे और दूसरी तरफ से भी इसी तरह से गोचे लगा दें एक-एक करके इसी तरह से सारी मठरी बना कर तैयार कर लें।

कढ़ाई में घी गर्म हो गया है 4 से 5 बेली हुई मठरी कढाई में डाले और मीडियम व धीमी आग पर मठरी ब्राउन होने तक तल लें तली हुई मठरी प्लेट में निकाल कर रख लें और सारी मठरी इसी तरह से तल कर निकाल लें मठरियों को ठंडा होने दें।

अब चाशनी बनाएं

एक भगोने में चीनी और 200 ग्राम पानी या फिर एक छोटा गिलास पानी मिलाकर डाले और चाशनी बनने के लिएं आग पर रख दें चाशनी में उबाल आने के बाद दूध डाले और जैसे ही चाशनी में झाग किनारे होने लगे तो उन्हे चम्मच से उठाकर निकाल दें।

इसे निकाल ने से चाशनी एकदम साफ़ और अच्छी बनेगी चाशनी को 6 से 7 मिनट तक पकाएं और 2 तार की चाशनी बनाकर तैयार कर लें (चाशनी के टैस्ट के लिएं आप एक बूंद चाशनी किसी प्लेट में गिराएं और ठंडी होने पर अंगूठे और अंगुली के बीच चाशनी को चिपका कर देखे आपको तार निकलते हुए दिखाई देगे) अब आपकी चाशनी बिलकुल तैयार है।

चाशनी के बर्तन में 3 से 4 मठरी डाले और डुबा कर निकाल दें सारी की सारी मठरियां ( punjabi mathri recipe) इसी तरह से चाशनी में डुबा कर निकाल लें और 5 मिनट बाद फिर से ये मठरियां एक दूसरे के ऊपर से हटा कर सुखने दें मठरियां सूखने के बाद खाने के लिए बिलकुल तैयार हैं।

मीठी मठरियां तैयार हो गई है अब आप ये मठरियां अभी खाएं और बची हुई मठरियां एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख लें जब भी आपका मन हो कन्टेनर से मठरियां निकाले और खाएं ये मठरियां आप दो महीने तक भी खा सकते हैं।

इस रेसिपी से जुडा हुआ कोई भी सवाल आप के मन में हो तो नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में लिखें या अपनी राय दें।

शेयर करें:

Leave a Comment