शरीर में जमी गंदगी को कैसे निकाले Detox Your Body In 1 Day

हेलो दोस्तों आज आप इस पोस्ट में ये जानेगे कि आप अपने शरीर की गंदगी (टोक्सिन) को कैसे निकालेगे? जिससे आपका शरीर एकदम डिटॉक्स हो जाएंगा। क्यूंकि हमारे शरीर का साफ़ होना बहुत जरूरी हैं। जब आपकी बॉडी अन्दर से साफ़ होगी, तो आपका चेहरा एकदम साफ़ रहेगा और वज़न भी कम होने लगेगा। आप पहले से ज़्यादा एनर्जी फील करेगे।

बॉडी के डिटॉक्स होने की वजह से आपका पाचन तंत्र बहुत ही तेज़ी से काम करेगा और चेहरे पर जितने भी दाग, धब्बे, मुहांसे होते हैं वो सब भी ठीक हो जाते हैं। इसी के साथ आप बहुत सारी गंभीर बीमारियों से बचे रहते हैं। क्यूंकि जितनी भी बिमारी होती हैं, वो हमरे शरीर में मौज़ूद गंदगी की वजह से ही होती हैं। इसलिए हमे अपने शरीर को साफ़ करना बहुत जरूरी हैं।

सबसे पहले आप ये जाने कि शरीर में गंदगी जमा कैसे होती हैं और हम जो भी खाते हैं उसका हमारी बॉडी में क्या होता हैं? जब आप कुछ भी खाते हैं। तो वो सबसे पहले हमारी आहार नाल से होकर हमारे पेट में जाता हैं और फिर वहा जाकर हमारा खाना टूटता हैं और फिर टूटकर आंतो में पहुँचता हैं। वहा कुछ टाइम रूककर बाद में वेस्ट (मल) होकर बाहर निकल जाता हैं।

हम जो भी खाते हैं, वो आंत में जाता हैं। इसलिए सबसे ज़्यादा गंदगी हमारी आंत की दीवारों पर चिपकती हैं। क्यूंकि जब भी हम पिज़्ज़ा, बर्गर, मैगी, चिप्स, फ्राइड स्नैक्स, नमकीन, चाय या कॉफ़ी या फिर बिस्किट, ब्रेड ऐसी अनहेल्दी और गलत चीज़े खाते हैं। तो ये हमारी आंतो की दीवारों पर चिपकने लगती हैं और दीवारों पर गंदगी की एक मोटी लेयर बन जाती हैं।

क्यूंकि हमारी आंत अंदर से इस तरह की होती हैं।

intestine

आंत के अन्दर हज़ारो छोटे-छोटे उँगलियों की तरह उभार होते हैं। जिसको विलाय कहते हैं। ये विलाय फ़िल्टर की तरह काम करते हैं। इन विलाय के अन्दर शरीर के अलग-अलग हिस्सों से जुड़ी नसे होती हैं और इनका काम होता हैं। हमे भोज़न से जो पौषक तत्व मिलते हैं। उनको लेकर खून और शरीर के अलग-अलग हिस्सों तक पहुंचाना।

जब हमारे विलाय पर गंदगी जमा होगी, तो ये गंदगी शरीर के हर हिस्सों में पहुंचकर जम जाती हैं और फिर हमारे अंगो के काम को डिस्टर्ब करती हैं। जिसको हम बिमारी कहती हैं। अगर ये गंदगी हमारी स्किन में जम जाती हैं। तब हमे मुहांसे, दाग, धब्बे, पिम्पल्स,एलर्जी और खुजली जैसी बीमारी हो जाती हैं।

अगर यही गंदगी हमारी किडनी में जम जाती हैं। तब ये किडनी में स्टोन (पथरी)  कर देती हैं। ये गंदगी हमारे खून में जमकर खून को भारी कर देती हैं। जिससे हार्ट को ब्लड को पंप करने के लिए ज़्यादा प्रेशर लगाना होता हैं। जिसकी वजह से हमारा ब्लड प्रेशर हाई हो जाता हैं।

गंदगी के आंत पर जमने की वजह से कब्ज़ की प्रॉब्लम होने लगती हैं और अगर ये गंदगी हमारी आर्टरीज़ में जम जाती हैं। तो हमारी नसे ब्लॉक हो जाती हैं और कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता हैं और इतना ही नहीं इस गंदगी के लीवर पर जम जाने पर हमारा हेल्दी लीवर फैटी लीवर हो जाता हैं और जांडिस जैसी बिमारी को पैदा करता हैं। गंदगी के फेफड़ो पर जमने पर अस्थमा हो जाता हैं।

अगर आप इस गंदगी को साफ़ नहीं करेगे, तो इस गंदगी से गंभीर बिमारी ट्यूमर और केंसर तक हो सकता हैं। क्यूंकि छोटी से छोटी बिमारी हो या फिर बड़ी से बड़ी इस गंदगी की वजह से ही होती हैं। इसलिए इस गंदगी को शरीर से बाहर निकालना बहुत जरूरी हैं। क्यूंकि जब हमारा शरीर अंदर से साफ़ होगा, तो हमे कोई बिमारी छू ही नहीं सकती हैं। इसलिए मैं आपको शरीर की गंदगी को बाहर निकालने के पांच ऐसे तरीके बताउंगी। जिससे आपकी बॉडी को डिटॉक्स कर देगा। जिससे आप हर बिमारी से महफूज़ रहेगे बिमारी आपसे कोसो दूर रहेगी।

ये पांचो तरीके एकदम सरल और सिम्पल हैं। आपको अपनी बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए किसी भी तरह की मेडिसिन लेने की जरूरत नहीं हैं। क्यूंकि हमारी बॉडी खुद ही अपने आप को डिटॉक्स करती हैं। बस आपको डिटॉक्स करने का तरीका पता होना चाहिए। मैं आपको जो पांच तरीके बताउंगी। उनको आप हफ्ते में एक दिन भी कर लेगे, तो आपकी बॉडी में जमा सारी गंदगी बाहर हो जाएँगी और आपकी बॉडी डिटॉक्स हो जाएँगी। जिससे आपको बहुत अच्छा फील होगा।

स्टेप – 1

आपको एक चम्मच कोकोनट ऑइल या मस्टर्ड ऑइल लेकर इसको मुहं में डालना हैं और फिर इस ऑइल को अपने मुहं के चारो तरफ 15 से 20 मिनट तक घुमाना हैं। फिर इस ऑइल को बाहर निकाल देना हैं। उसके बाद आपको कुल्ला कर लेना हैं। ऑइल को मुहं में लेने से ये होगा, कि हमारी जीभ जो हैं। वो दिल, किडनी, आंत, फेफड़े और सब बॉडी के सब अंगो से जुड़ी रहती हैं। इसलिए जब आप ऑइल को मुहं में डालकर घुमाएंगे तो सब अंगो पर जमी गंदगी इस ऑइल पर चिपक जाएँगी। जिससे आपकी बॉडी डिटॉक्स हो जाएँगी।

स्टेप – 2

जब आप सुबह सोकर उठे तो सबसे पहले फ्रेश हो जाएँ। उसके बाद एक गिलास हल्का गर्म पानी लेकर इसमें आधा कागज़ी निम्बू लेकर पानी में निचोड़ ले और फिर इस निम्बू वाले पानी को सिप-सिप करते हुए पिएं। पानी को पीने के बाद सुबह की धूप में आप 15 से 20 मिनट में बैठे। क्यूंकि धूप में विटामिन डी होता हैं और जैसी ही हमे विटामिन डी मिलेगा। तो ये हमारी बॉडी में उपस्थित कीटाणु, जीवाणु को नष्ट कर देगा। इसलिए आपको निम्बू वाला पानी पीकर धूप में जरूर बैठना हैं।

स्टेप – 3

आपको अपने रात के खाने का ख़ास ख्याल रखना हैं। अगर आप रात को देर से खाना खाते हैं, तो आपको अपनी इस आदत को बदल लेना हैं। क्यूंकि रात को आपको जल्दी खाना हैं और फिर सुबह में देर से नाश्ता करना हैं। क्यूंकि हमारी बॉडी के अंदर जितने भी रिकवर प्रोसेस होते हैं। वो सब रात के समय जब हम सोते हैं तब होते हैं। इस वजह से आपको रात का खाना 6 से 7 बजे के बीच खाना हैं।

जिससे आपकी बॉडी के ऑर्गन आपकी बॉडी को डिटॉक्स कर सके। अगर आप रात को देर से खाना खाते हैं और खाकर तुरंत सो जाते हैं। तो आपका जो ऑर्गन हैं, वो आपका खाना पचाने में ही बिज़ी हो जाएंगा। उसका बॉडी को डिटॉक्स करने का समय ही नहीं मिलेगा। क्यूंकि खाने को पचने में समय लगता हैं। देर से खाने से ये यही नुक्सान होगा। आपकी बॉडी डिटॉक्स नहीं हो पाएंगी। उसका सारा समय खाने को पचाने में ही लग जाएंगा।

ऐसा ना हो इस वजह से आप रात को जल्दी खाना खाएं। खाने के साथ आपको एक और बात का ख्याल रखना हैं। आपको खाना खाने के 10 मिनट के बाद एक छोटा सा टुकड़ा गुड़ का और एक छोटा सा टुकड़ा अदरक का लेना हैं और इन दोनों को चबा-चबाकर खाना हैं। इन दोनों को खाने से ये होगा, कि आपका जो खाना हैं। वो एकदम सही से पचेगा। ये आपके खाने को सड़ने से बचाएंगा और दूसरा फायदा ये होगा, कि शरीर में जो भी गंदगी हैं। वो सब को खाने के साथ वेस्ट के रूप में बाहर निकाल देगा।

स्टेप – 4

जब तक आप बॉडी को डिटॉक्स कर रहे हैं। तब तक आपको चाय, कॉफ़ी, बिस्किट, फ्राइड स्नैक्स और पैकेट वाली चीज़ों से परहेज़ करना हैं। अगर आप ये सब चीज़े बॉडी को डिटॉक्स करते हुए खा रहे हैं। तब आपका बॉडी को डिटॉक्स करने का कोई फायदा नहीं होगा। क्यूंकि यही वो चीज़े हैं। जिसको खाने से आपकी बॉडी के अन्दर गंदगी जमा हो रही हैं। इसलिए बॉडी को डिटॉक्स करते हुए इन सब को अवॉयड करे।

आपको अपने रेगुलर खाने में कोई बदलाव नहीं करना हैं। आप जो भी खाना खाते हैं। जैसे रोटी, चावल और सब्ज़ी उसमे आपको बस ये करना हैं, कि सब्ज़ी को अधिक मात्रा में लेना हैं। रोटीऔर चावल की अपेक्षा आपको सब्ज़ी को अधिक मात्रा में लेना हैं। क्यूंकि सब्ज़ी के अन्दर फाइबर होता हैं और यही फाइबर आंत में पहुंचकर शरीर के अंगो में जमी गंदगी को मल के रूप में बाहर करता हैं।

स्टेप – 5

आखिरी और पांचवा तरीका ये हैं कि आपको अपने लिए पूरे दिन में आधा घंटा जरूर निकालना हैं और इस आधे घंटे में आपको कोई भी फिज़िकल एक्टिविटी जरूर करनी हैं। जैसे की आप इसमें किसी भी तरह का गेम खेल सकते हैं। एक्सरसाइज़ कर सकते हैं। दौड़ सकते है या किसी भी तरह का वर्क आउट कर सकते हैं। क्यूंकि फिज़िकल एक्टिविटी करने से आपको पसीना आएंगा और इस पसीने के जरिये शरीर की गंदगी बाहर निकलेगी।

बॉडी को डिटॉक्स करने में उपवास (फ़ास्ट) भी बहुत जरूरी हैं। क्यंकि उपवास में हम कुछ भी खा या पी नहीं सकते हैं। तो हमारी बॉडी बहुत ही आराम से डिटॉक्स हो जाएँगी। डिटॉक्स करने के लिए आपको किसी भी तरह की दवाई की जरूरत नहीं होती हैं। क्यूंकि हमारी बॉडी के अन्दर एक ऐसी पॉवर होती हैं। जो बॉडी को डिटॉक्स करती हैं और इस पॉवर को हीलिंग पाउडर कहते हैं। हम पूरे दिन में कुछ न कुछ खाते ही रहते हैं और खाने को पचने में भी समय लगता हैं। हमारा पहले का खाना पचता नहीं और हम और खा लेते हैं। ऐसे में हमारी बॉडी डिटॉक्स नहीं पाती हैं। बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए आपको उपवास भी करना चाहिए। जिससे बॉडी को डिटॉक्स होने का टाइम मिल सके।

इस तरह से आप अपनी बॉडी को बहुत ही आराम से डिटॉक्स कर सकते हैं और स्वस्थ रह सकते हैं।

Image Source: Bumbex

Recipe Source: Bumbex

5/5 - (2 votes)

Leave a Comment

join us on telegram zayka recipes