अर्जुन की छाल की चाय पीने के फायदे और बनाने की विधि Arjun ki Chaal ki Chai

arjun ki chaal ki chai यह आयुर्वेदिक चाय आपके शरीर की 100 बीमारियों को खत्म करने की ताकत रखती है। आप भी इस चाय को रोजमर्रा की जिंदगी में शामिल करें।

फायदे – arjun ki chaal ki chai peene ke fayde

ये चाय हार्ट की कम से कम 100 बीमारियों में फायदेमंद होती है। खून को पतला करती है जैसा खून हमारी नसों में होना चाहिए ये उतना नॉर्मल कर देता है।

ये रक्त पित्त नाशक है और कफ नाशक भी है। जिनको नज़ला रहता है या मौसम बदलते ही छीके आने लग गई या नज़ला जुकाम लगा रहता है। उनके लिए भी ये चाय बहुत ही कारगर है।

जिनका लीवर फेटी है लीवर से संबंधित कोई भी प्रॉब्लम हो या फैटी लिवर हो उसको भी ये चाय ठीक कर देती है।

हमारे शरीर में जैसे नसे कमजोर हो जाती है तो ये शारीर की नसों को ताकत देती हैं। बहुत सी लेडीस हैं जो किचन में खड़े होकर काम करती हैं जिन महिलाओ को थोड़ी देर खड़े होने पर पैरों में दर्द होने लगता है। तो यह चाय उनके पैरों की नसों को बहुत ताकत देती हैं इस चाय को पीने से उनके पैरों में कभी दर्द नहीं होगा।

डायबिटिक लोगों के लिए भी यह बहुत फायदेमंद है लेकिन डायबिटिक लोगों को इसमें मीठा नहीं डालना है इसमें काफी ज्यादा मात्रा में कैल्शियम है और मैग्नीशियम भी है।

कैल्शियम इसमें काफी ज्यादा मात्रा में हैं इसीलिए ये हड्डियो को मजबूत करता है। बहुत से लोगो का पैर मुड़ा नहीं कि उनकी हड्डी फैक्चर हो जाती है तो ये हड्डियों को मजबूत बनाती है।

इसको या तो आप सुबह खाली पेट ले सकते हैं या फिर नाश्ते के एक घंटे बाद लें  और अगर सुबह खाली पेट आपने इस चाय को पी लिया है तो फिर आधे घंटे बाद ही नाश्ता करें।

इस चाय को आप स्टील के बर्तन में या फिर पीतल के बर्तन में ही पकाएं और किसी भी बर्तन में इस चाय को कभी ना बनाएं।

आवश्यक सामग्री – ingredients for arjun ki chaal ki chai

  • अर्जुन की छाल = एक छोटा चम्मच
  • मिश्री पाउडर = एक चम्मच
  • पानी = कप

अर्जुन की छाल की चाय बनाने की विधि – how to make arjun chaal tea

अर्जुन की छाल की चाय बनाने के लिए गैस को ऑन करके एक बर्तन में दो कप पानी डालकर रख दे। एक कप चाय बनाने के लिए दो कप पानी लेना है। पहले पानी को थोड़ा सा गर्म होने दें जब पानी हल्का गर्म हो जाए तो फिर इसमें आधा छोटा चम्मच अर्जुन की छाल का पाउडर डाल दें।

अब इसको ढक दें आप हमारे बताए अनुसार ही इस चाय को बनाएं अब गैस तो एकदम लो कर दें और जब तक पानी उबलकर एक कप ना रह जाए तब तक इसको पका लें।

हल्की आंच में इस चाय को बनाने में आपको 7 मिनट लगेंगे मीठे के लिए आप इसमें शहद, मिश्री धागे वाली गुड़ या चीनी भी डाल सकते हैं। जब चाय पककर एक कप रह जाएँ तो गैस बंद कर दे।

चाय को एक कप में छान लें आप भी चाय को बिलकुल इसी तरह से पकाएं तभी आपको ये फायदा देगी। अब इसमें एक चम्मच पिसी हुई मिश्री डालकर चलाते हुए घोल लें क्योंकि इस चाय की तासीर गर्म है। इसीलिए आप इसको सर्दियों में पिएंगे क्योंकि यह बहुत गर्म होती है।

आप इस चाय को नवंबर, दिसंबर, जनवरी और फरवरी चार महीने पी सकते हैं। अगर आप 4 महीने लगातार इस चाय को पिएंगे तो यह आपको पूरे साल बीमार नहीं होने देगी और हार्ड के लिए तो यह बहुत ही फायदेमंद होती है।

4 thoughts on “अर्जुन की छाल की चाय पीने के फायदे और बनाने की विधि Arjun ki Chaal ki Chai”

Leave a Comment