RO का पानी पीना बन सकता है मौत का कारण

क्या हम वास्तव में आर.ओ. को शुद्ध पानी मान सकते हैं,

जवाब है बिल्कुल नहीं…!!

और यह जवाब विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) की तरफ से दिया गया है। विश्व स्वास्थ संगठन ने बताया हैं कि इसके लगातार सेवन से हृदय संबंधी विकार, थकान, कमज़ोरी, मांसपेशियों में ऐंठन, सर दर्द आदि दुष्प्रभाव पाए गए हैं।

यह कई शोधों के बाद पता चला है कि इसकी वजह से कैल्शियम, मैग्नीशियम पानी से पूरी तरह से नष्ट हो जाते हैं जो कि हमारे शारीरिक विकास के लिए अत्यंत ही आवश्यक है।

वैज्ञानिकों के अनुसार मानव शरीर 500 टी.डी.एस. तक सहन करने की छमता रखता है, परंतु R.O. में 18 से 25 टी.डी.एस. तक पानी की शुद्धता होती है जो की नुकसानदायक है।

इसके विकल्प में क्लोरीन को रखा जा सकता है जिसमें लागत भी काफी कम होती है एवं आवश्यक तत्व भी सुरक्षित रहते हैं जिससे मानव शारीरिक विकास अवरूद्ध नहीं होता हैं।

जहां पर एक तरफ एशिया और यूरोप के कई देश R.O. पर प्रतिबंध लगा चुके हैं वहीं भारत में R.O. की मांग लगातार बढ़ती ही जा रही है और कई सारी विदेशी कंपनियों ने यहां पर अपना बड़ा बाजार बना लिया है।

आजकल जो इतनी ज्यादा बीमारियाँ बढ़ रही हैं और इसका एक प्रमुख कारण आजकल सभी का RO इस्तेमाल करना हो सकता हें।

अब फैसला आपका हैं क्योंकि जीवन भी आपका।

इस रेसिपी से जुडा हुआ कोई भी सवाल आप के मन में हो तो नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में लिखें या अपनी राय दें।

शेयर करें:

Leave a Comment