क्या आपको पता है व्रत खोलने के तुरंत बाद क्या खाएं और क्या न खाएं?

Vrat me kya khaye kya na khaye अक्सर ही सभी लोग व्रत खोलने के बाद में उन चीजों को खाना पसंद करते हैं। जिसे हम उपवास के समय नहीं खा सकते तो आइए आज हम आपको बतायेंगे की आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

नारियल पानी से करें खाने की शुरुआत

व्रत खोलने के बाद आपको फ़ौरन नारियल पानी-पीना चाहिए इसमें इलेक्टोलाइट मिनरल्स होते हैं। जो कि हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं।

लंच में सादी कढ़ी खाएं इसमें लो फैट होता है इसलिए यही कोशिश करें कि कम से कम तेल वाला खाना ही आप खाएं।

दलिया है सबसे बेस्ट

व्रत के बाद हरी-हरी सब्ज़ी और मिक्‍स वेज दलिया बॉडी को काफी ज़्यादा उर्जा देता है। खिचड़ी भी उपवास के बाद का बहुत ही अच्छा खाना है।
रोटी के साथ में दाल अवश्य खाएं यह हमरी बॉडी में प्रोटीन की भरपाई कर देती है। इडली के साथ में चटनी का नाश्ता भी बहुत अच्छा है।
अगर आपका पनीर खाने का दिल हो तो पनीर की भुर्जी या फिर रोस्‍टेड पनीर ले सकते हैं। अगर आप पूरी खाना चाहती हैं तो इसके लिए आटा गूंधते टाइम इसमें सब्जियां मिक्‍स कर लें मिक्सवेज पूरियां ही खाएं।

कोंसी चीजों को करें अवॉइड

एकदम से ज़्यादा मात्रा में घी लगी रोटी, मटर पनीर भी स्वास्थ के लिहाज़ से हानिकारक हो सकता है
चिकन, मटन तो बिल्‍कुल भी न खांए और किसी भी नशीले पेय पदार्थ का सेवन करने से बचें रहे।

क्या होंगे इनके नुकसान

भारी और ज़्यादा मात्रा में खाना-खाने से आप acidity के शिकार भी हो सकते हैं। ऐसे में खट्टी डकारें आपको काफी दिक्‍कत दे सकती है।
ज़्यादा चिकनाई वाला खाना-खाने से कोलेस्‍ट्रॉल लेवल भी बढ़ सकता है। इसका सीधा असर दिल पर पड़ेगा
नमक ज़्यादा होने से प्‍यास भी ज़्यादा लगेगी ज़रा-जरा सी देर पर गला सूखेगा चीनी की मात्रा भी अधिक होने से आपको तकलीफ हो सकती है।

तकलीफ बढ़े तो यह करें

एसि‍डीटी होने पर आप acidity को दूर करने का काम करने वाले लिक्विड भी ले सकते हैं।
कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर फ़ौरन डॉक्‍टर की सलाह लें। इसकी पहचान है जल्‍दी थक जाना, सांस का फूलना,
प्‍यास का अधिक लगना। ऐसा होने पर चीनी का घोल पी लें ये इसका पहला सोल्‍यूशन है फिर इसके बाद डॉक्‍टर की राय अवश्य लें।

डायबिटीज या ब्लड प्रेशर के पेशंट हैं

अगर आप डायबिटीज पेशंट है तो फिर उपवास के फ़ौरन बाद अपने शुगर लेवल की जांच ज़रूर करा लें।
फिर दोबारा से डॉक्‍टर से अपनी मेडिसिन की डोज को चेक कराएं।
अगर आप BP के रोगी है तो अपना ब्‍लड प्रेशर चेक करें और अपनी दवाओं का निर्धारण डॉक्‍टर से करवा लें।

शेयर करें: