सिंघाड़े का हलवा बनाने का इससे अच्छा तरीका और कोई हो ही नहीं सकता

हलवा कई तरह का होता है जैसे कि (sooji ka halwa) सूजी का हलवा, बेसन का हलवा, (besan ka halwa) मुंग की दाल का हलवा (moong ki daal ka halwa) लेकिन इस तरह के हलवों को हम फलाहार वाले व्रतों में बिलकुल भी नहीं खा सकते हैं। इसीलिए आज में आपको एक ऐसे हलवे के बारे (halwa ) में बताने जा रही हूँ जिसे हम फलाहार वाले व्रतों में भी खा सकते हैं। (halwa recipe)और वह हलवा है सिंघाड़े का हलवा।

बनाने के लिए सामग्री – Material – singhare ka halwa recipe

  • सिंघाड़े के आटा = एक कटोरी
  • चीनी = दो कटोरी
  • घी = एक कटोरी
  • काजू-बादाम = आधी कटोरी, बारीक कटे हुए
  • घिसा हुआ नारियल = आधी कटोरी

बनाने की विधि – how to make singhare ka halwa

सिंघाड़े का हलवा बनाने के लिए सबसे पहले आप एक कढ़ाई में घी ड़ालकर गर्म कर लें। और फिर इसमें सिंघाड़े का आटा ड़ालकर स्लो गैस पर हल्का ब्राउन होने तक चलाते हुए भून लें।

और आटा भुन जाने पर इसमें चीनी ड़ालकर एक से दो मिनट तक चलाते हुए अच्छे से मिक्स कर लें। और फिर इसमें थोड़ा-थोड़ा करके पानी ड़ालते हुए बराबर चलाते हुए पकाए ताकि इसमें गुठलियां ना पड़े।

इस बात का खास ध्यान रहे कि इसमें पानी एकसाथ नहीं ड़ालना है नहीं तो हलवे में गुठलियां पड़ जाएँगी।

जब हलवा अच्छे से पक जाए। और घी अलग दिखाई देने लगे तो फिर गैस को बंद कर दें और हलवे को एक थाली में घी लगाकर निकाल कर फैला दें।

और इसको ऊपर नारियल, बादाम और काजू  से सजा दें और इसको ठंडा होने के लिए रख दें। जब वह अच्छे से ठंडा हो जाए तो फिर इसको चाकू की मदद से अपनी पसंद के आकार में काट लें।

अगर आप चाहें तो इस हलवे को बगेर काटे ऐसे भी रख सकती है। जैसा आप चाहे रख सकती है अब हमारा टेस्टी सिंघाड़े का हलवा बनकर तैयार है। इस हलवे को आप व्रत में या फिर ऐसे भी खा सकती है।

शेयर करें:

Leave a Comment