सावधान, नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाने से होते हैं ये नुकसान

आजकल नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाने का चलन बहुत ज्यादा आम हो गया हैं। क्योकि नॉन-स्टिक बर्तनों में खाना बनाना लोगों के लिए बहुत ही ज्यादा आसन है। और इसकी सबसे बड़ी खास बात तो ये है कि इसमें खाना बनाने से मसाला तले में नहीं चिपकता हैं।

और दूसरा नॉनस्टिक बर्तनों का इस्तेमाल करने से तेल काफी कम लगता है और खाना जलता भी नहीं है। और धोने में भी ये बहुत ही आसान है लेकिन इन सब फायदों के बावजूद भी नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाना सेहत के लिए बहुत ज्यादा हानिकारक है।

इसे बहुत ज्यादा गर्म करने से या फिर इसकी सतह पर खरोंच आने से इससे कुछ खतरनाक रसायन निकलते हैं जिसका हमारे स्वास्थ पर बहुत बुरा असर पड़ता है। विशेषज्ञ हमेशा से ही इन बर्तनों को बहुत ज्यादा गर्म करने या फिर जलते गैस पर छोड़ने की सलाह नहीं देते हैं तो फिर आइए आज जानते हैं नॉन स्टिक बर्तनों के नुकसान के बारे में।

पढ़े नॉन स्टिक बर्तनों के नुकसान

दिल की बीमारी

पहले जमाने में दिल की बीमारी को बुढ़ापे का रोग माना जाता था परन्तु बदलती जीवन शैली की वजह से आज इससे युवा भी काफी प्रभावित होते हैं एक रिसर्च के मुताबिक अगर आप नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाते हैं तो फिर आप हार्ट अटैक को आने के लिए खुद न्यौता देते हैं। नॉन-स्टिक बर्तनों में खाना बनाने से धीरे-धीरे हमारे शरीर में हाई ट्राईग्लेसिराइड फैट बढ़ने लगता है और यही फैट कई बार दिल की बीमारी कारण बन जाता है।

हड्डियों को नुकसान पहुंचाए

रोज़ाना नॉन स्टिक बर्तन का प्रयोग करने से आपकी हड्डियों में भी कमजोरी आ सकती है और ऐसे बर्तनों में खाना बनाने से न सिर्फ शारीर में आयरन की कमी हो जाती है बल्कि हड्डियों में भी दर्द होने लगता है।

थायराइड को भी बढ़ता हैं

भारत में थायराइड के रोगियों की संख्या बराबर बढ़ती ह जा रही है खास तौर पर इससे महिलाएं काफी ज्यादा प्रभावित हो रही हैं नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाने से थायराइड की समस्या भी हो सकती है। अगरआप नियमित रूप से नॉन स्टिक बर्तन का प्रयोग करते हैं तो फिर इससे परफ्लूरिनेटेड कम्पाउंड (PFO) शरीर के अन्दर पहुंच जाता है जो कि थायराइड को बढ़ाने का काम करता है।

लिवर पर असर

हमारे शारीर में लिवर का बहुत ही अहम रोल होता है अगर लिवर ही खराब हो जाएँ तो फिर शरीर की कार्य करने की क्षमता न के बराबर हो जाती है लिवर की प्रॉब्लम ज्यादातर बिगड़ते खान-पान की वजह से होती है और इसके अलावा नॉन स्टिक बर्तन भी आपके लिवर को खराब कर सकते है ऐसे बर्तनों से टॉक्सि फ्यूम्स निकलती हैं जो कि आपके पेट को खराब कर देती हैं।

कैंसर का खतरा

इसीलिए नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाना बिलकुल बंद कर दें क्योकि ये कैंसर जैसी भयानक बीमारी की वजह बन सकता है और इन बर्तनों में कैंसर को बढ़ावा देने वाले तत्व कारसीनोजेन पाए जाते हैं जो कि हमारे शरीर में पहुंचकर ब्रेस्ट कैंसर को भी बढ़ावा देते हैं इसीलिए इसकी जगह पर आप लोहे या फिर स्टील को इस्तेमाल में लाएं में लाइए।

प्रतिरोधक क्षमता को करे कमजोर

बॉडी को रोगों से दूर रखने के लिए इम्यून सिस्टम यानि कि रोग प्रतिरोधक क्षमता का मजबूत होना बहुत जरूरी होता है नॉन-स्टिक बर्तन से निकलने वाला परफ्लूरिनेटेड कम्पाउंड (PFO) शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर बनाने का काम करते हैं और ऐसे बर्तनों में खाना बनाने से शरीर में तरह-तरह की बीमारियां होने लगती हैं।

शेयर करें:

Leave a Comment