इस जूस के आगे लाखों की दवाइयां भी है फेल, डेंगू व चिकनगुनिया में किसी नायाब से कम नहीं

मानसून मौसम में मच्छरों का आतंक काफी ज़्यादा बढ़ जाता है। और इसी के चलते डेंगू व चिकनगुनिया जैसी खतरनाक बीमारियों का खतरा भी बहुत बढ़ जाता है। डेंगू व चिकनगुनिया एक ऐसा बुखार होता है जो बॉडी को पूरी तरह से तोड़कर रख देता है और इससे जोडों में बहुत ज़्यादा दर्द होता है।

एक्सपर्ट के कहे अनुसार डेंगू व चिकनगुनिया में प्लेटलेट्स बहुत तेज़ी से घटती है। और अगर इसमें सावधानी न बरती जाए तो फिर ये बीमारी जानलेवा भी हो सकती है। और इन दोनों जानलेवा बीमारियों में पपीते का पत्ता डेंगू और चिकनगुनिया का रामबाण इलाज है। पपीते के पत्तों में पाया जाने वाला Acetozinin डेंगू और चिकनगुनिया जैसी घातक बीमारियों को रोकने में काफी मददगार साबित होता है आप इसका जूस भी बनाकर पी सकते हैं।

पपीते के पत्ते का जूस बनाने की सामग्री – papaya leaf juice

  • पपीते के पत्ते = तीन अदद
  • पानी दो गिलास

जूस बनाने की विधि – how to make papaya leaf juice

जूस बनानें के लिए सबसे पहले सारे पत्तो को अच्छे से धोकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।और फिर मीडियम गैस पर एक फ्राई पैन में पानी और पपीते के पत्तो को डालकर उबालें।

जब तक की पानी उबल कर आधा न रह जाए तब तक इसे ढककर पकाते रहें और फिर गैस को बंद कर दें। अब इन पत्तों को पीसकर एक बर्तन में रख लें तैयार है आपका पपीते के पत्तों का जूस।

पपीते के पत्तों के फायदे

डेंगू व चिकनगुनिया हो जाने पर दवाइयों के साथ-साथ पपीते के पत्ते का जूस अवश्य पिए। इन दोनों बीमारियों में ये किसी वरदान से कम नहीं है।

पपीते का पत्ता रोग-प्रतिरोधक क्षमता यानि की इम्‍यूनिटी पावर को बढ़ाता है और तेज़ी से गिरते हुए प्लेटलेट्स को बढ़ाने में और खून के थक्के जमा होने से रोकने में पपीते के पत्तो का जूस बहुत मददगार होता है।

पपीते के पत्तों में Vitamin A, B, C, कैल्शियम, प्रोटीन व आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

शेयर करें:

Leave a Comment